साबूदाने की खिचड़ी रेसिपी ( Sabudana Ki Khichdi Recipe In Hindi )

Sabudana Ki Khichdi Recipe In Hindi

साबूदाना एक शुद्ध शाकाहारी और व्रत या उपवास में खाये जाने वाला एक खाद्य पदार्थ हैं, यह छोटे-छोटे मोती की तरह सफ़ेद और गोल होते हैं। साबूदाने की तासीर मध्‍यम ठंडी होती है, जिसके कारण साबूदाना खानेके फायदे से हमारे शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में सहायक होते हैं।भारत मे यह कसावा या टेपियोका की जड़ों से व अन्य अफ्रीकी देशों मे सैगो पाम नामक पेड़ के तने के गूदे से बनता है। तथा सागो, ताड़ की तरह का एक पौधा होता है।साबूदाने की खिचड़ी एक बहुत ही लोक प्रिय फलहार हैं,जोकि नवरात्रि में हर घरों में बनाई जाती हैं नवरात्रि इंडिया का बहुत फेमस त्यौहार हैं,जोकि पूरे भारत में मनाया जाता हैं।साबूदाने की खिचड़ी नवरात्रि और शिवरात्रि जैसे व्रत करने पर खाते हैं ,और ये साबूदाने की खिचड़ी नवरात्रि के दिनों जो लोग नव दिनों का व्रत करते है ,उन सबके घरों मे साबूदाने की खिचड़ी ,साबूदाने की खीर ,साबूदाने का हलवा ,साबूदाने के लड्डू,साबूदाने का चीला या साबूदाने की थालीपीठ, साबूदाने की फलहारी नमकीन इत्यादि बनाई जाती है।और जोकि बनाने में आसान,खाने में टेस्टी तथा हेअल्थी और कम समय में झटपट बनकर तैयार हो जाने वाली एक डिश हैं। साबूदाना दो तरह के होते हैं -एक छोटे दाने वाले तथा दूसरा बड़े दाने वाले। तथा इस साबूदाने की खिचड़ी में मैंने छोटे दाने के साबूदाने का इस्तेमाल किया हैं, क्योंकि छोटे दाने के साबूदाने को भिंगोने तथा पकाने में समय कम लगता हैं। तथा साबूदाने की खिचड़ी खिली खिली बनकर तैयार होती हैं।

सामग्री :- साबूदाने की खिचड़ी रेसिपी बनाने में लगने वाली सामग्री 

  • साबूदाना -1 कप
  • पानी - 1/ 2 कप  
  • घी - 2 टेबल स्पून
  • जीरा - 1 टी स्पून
  • करी पत्ता - 5 - 8 
  • हरी मिर्च - 2 - 3 ( बारीक़ कटी हुई )
  • अदरक - 1 इंच (बारीक कद्दूकस किया हुआ )
  • आलू - 2 मध्यम ( उबला,छिले और चौकोर टुकड़ों में कटा हुआ)
  • मूंगफली - 1 /2  कप ( भुना और दरदरा पीसा हुआ )
  • नारियल का बुरादा  - 2 -3 टेबल स्पून
  • हल्दी पाउडर - 1/4 टी स्पून  
  • चीनी - 1 टी स्पून 
  • नींबू का रस - 1 टी स्पून 
  • सेंधा नमक - स्वादानुसार या 3/4 टी स्पून  
  • धनिया पत्ता - 2 टेबल स्पून ( बारीक़ कटे हुये )
  • तैयारी का समय - 10 मिनट
  • पकाने का समय - 20 मिनट
  • भींगोकर छोड़ने के लिए - 4 घंटे 
  • कुल समय - 4 घंटे, 30 मिनट
  • कितने लोगों के लिए - 4 

विधि:- साबूदाने की खिचड़ी रेसिपी बनाने की विधि 

  1. साबूदाने की खिचड़ी बनाने के लिए सबसे पहले हम 1कप साबूदाने को एक बाउल में डालें,और फिर साबूदाने को अच्छी तरह से रगड़कर दो से तीन बार पानी से धोकर के साफ कर लें।और अतिरिक्त पानी निकाल दें,और अब साबूदाने को 1/2 कप पानी में डुबोकर या भिंगोकर 2 से 3 घंटे के लिए रख दें।और 3 घंटे के बाद बाद साबूदाने को पानी से छान लें। 
  2. और एक बार अच्छी तरह से चेक करें, कि साबूदाना छानने के बाद इसमें पानी तो नहीं है,नहीं तो खिचड़ी चिपचिपी बनेगी या खिचड़ी गल जाएगी।और साबूदाने को छानकर 1 घंटे के लिए वैसे ही रहने दें ,ताकि एक्स्ट्रा पानी सुख जाये। इसके अलावा साबूदाने को उंगलियों के बीच दबाकर चेक करें कि साबूदाना दबाने पर आसानी से मैश हो जा रही हैं। 
  3. यदि साबूदाना अभी भी थोड़ी सख्त या टाइट है, तो थोड़ा सा पानी छिड़कें और 30 मिनट के लिए रख दें।अब एक कुकर में 2 मीडियम आलू और थोड़ा सा पानी डालकर गैस पर मीडियम फ्लेम पर रखकर एक सीटी लगा लें।और जब कुकर का प्रेशर निकल जाए तो आलू को तुरंत पानी से निकालकर अलग कर दें।और फिर थोड़ा ठंडा करके आलू के छिलके को छीलकर अलग निकाल लें। 
  4. और आलू को छोटे छोटे टुकडों में काट लें।तथा अब एक कढ़ाई को गैस पर मीडियम फ्लेम पर रखकर गर्म करें,और गर्म कढ़ाई में 1/2 कप मूंगफली के दाने को डालें।और गैस के फ्लेम को लो करके मूंगफली को बराबर से चलाते हुए 2 से 3 मिनट तक या मूंगफली के सोंधी खुशबूदार तथा कुरकुरे होने तक अच्छे से भून लें,और फिर मूंगफली को एक प्लेट में निकालकर ठंडा करें।
  5. तथा मूंगफली के दानों को एक साफ टॉवेल में डालकर अच्छे से रगड़कर इसके छिलके छीलकर हटा लें।और फिर मूंगफली को मिक्सर के जार में डालकर रुक रुक कर दरदरा पीस लें। अब एक बड़ी कढ़ाई या पैन मे 2 टेबल स्पून घी डालकर घी को अच्छा गर्म करें।तथा उसमें 1टी स्पून जीरा और 5 से 7 करी पत्ता डालकर चटका लें। 
  6. इसके बाद इसमें 1 इंच बारीक कद्दूकस किया हुआ अदरक और 3 बारीक कटी हुई हरी मिर्च तथा 2 उबले और छोटे टुकड़ों में कटा हुआ आलू डालें।तथा आलू को हल्का गोल्डन ब्राउन होने तक तलें,इसके बाद इसमें भिंगोया हुआ साबूदाना और दरदरी पीसी हुई मूंगफली डालें।इसके अलावा 1 टी स्पून चीनी,3/4 टी स्पून सेंधा नमक और 1/4 टी स्पून हल्दी पाउडर डालें तथा अच्छी तरह से सबको मिक्स करें।
  7. और अब साबूदाने को मध्यम आंच पर 6 से 9 मिनट तक पकायें ,या साबूदाने के पारदर्शी होने तक पकायें।और साबूदाने को बीच बीच में चलाते रहें ,ताकि साबूदाना नीचे पैन या कढ़ाई में चिपके नहीं।और 9 मिनट के बाद गैस के फ्लेम को ऑफ कर दें।और अब साबूदाने की खिचड़ी के ऊपर 2 टेबल स्पून नारियल का बुरादा,1 टी स्पून नींबू का रस और 2 टेबल स्पून बारीक़ कटी हुई धनिया पत्ता डालें। 
  8. और सबको अच्छी तरह से मिलाएं,तो अब हमारा साबूदाने की खिचड़ी बनकर तैयार हैं ,और अब आप गरमागरम साबूदाने की खिचड़ी को सर्व करें ,और साबूदाने की खिचड़ी का आनंद लें। या आप इसे अपने और बच्चों के लंच बॉक्स में पैक करके दें।

नोट्स:- साबूदाने की  खिचड़ी रेसिपी बनाने में ध्यान देने वाली बातें 

  1. साबूदाने दो साइज में आते हैं, बड़े दाने और छोटे दाने में।तथा हमें साबूदाने की खिचड़ी बनाने के लिए हमेशा छोटे दाने वाले साबूदाने का ही इस्तेमाल करना चाहिए। क्योंकि साबूदाना फूलने के बाद अपनी साइज से डबल हो जाता हैं इसलिए खिचड़ी में छोटे साइज के साबूदाने का इस्तेमाल करने चाहिए,जिससे खिचड़ी अच्छी दिखती हैं।
  2.  साबूदाने को दो से तीन बार पानी से अच्छी तरह से धोकर साफ करें ,ताकि साबूदाने का स्टार्च निकल जाएं। और साबूदाने को भिंगाते समय ज्यादा पानी नहीं डालें ,वरना खिचड़ी पकने के बाद चिपचिपा बन सकती है।इसके अलावा यदि आप व्रत में अदरक ,हल्दी और करी पत्ता नहीं खाते तो स्किप कर सकते हैं। खिचड़ी में मिर्च आप अपने टेस्ट के अनुसार कम या ज्यादा कर सकते हैं। 
  3. आप चाहे तो इसमें पनीर भी डाल सकते हो अगर आप पनीर डाल रहे हैं, तो पनीर के छोटे छोटे पीस आप अपनी पसंद के हिसाब से बना लें पर छोटे पीस ही ज्यादा अच्छे दिखेंगे।और घी गरम करके पनीर को हल्का सा तल लें, और आलू की जगह पनीर या आलू और पनीर दोनों को साबूदाने में डाल के अच्छे से मिलाकर पका लें। 
  4. शुद्ध घी में साबूदाने की खिचड़ी बनाने पर साबूदाना खिचड़ी का स्वाद बहुत अच्छा आता है।आप मूंगफली को ड्राई रोस्ट करने की जगह शुद्ध घी में भी तल कर इस्तेमाल कर सकते हैं।और साबूदाने को भिगोने का समय पूरी तरह से साबूदाने की गुणवत्ता पर निर्भर करता है। इसलिए जब आप इसे पहली बार बना रहे हैं ,तो इस पर नजर रखें।
  5. यदि आप बड़े दाने के साबूदाने से खिचड़ी बना रहे हैं ,तो आप इनको पूरी रात पानी में भिंगोकर रखें। इनके लिए 2 से 4 घंटे पर्याप्त नहीं होते हैं।और साबूदाने को पानी से छानकर 30 मिनट से 1 घंटे तक जरूर छोड़ें ,ताकि साबूदाने की खिचड़ी खिली खिली और बिना चिपचिपी बने। साबूदाने की खिचड़ी को नवरात्रि या किसी भी व्रत या उपवास में बनकर नास्ते या खाने में खा सकते हैं। 
Rate It:
Average:5/5 (1 Votes)